eRUPI क्या है? eRUPI के फायदे जाने और डाउनलोड करें।

जैसा की हम सभी जानते है धीरे धीरे हमारा देश काफी डेवेलप होते जा रहा है पहले ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम आया जिससे आज भारत के छोटे से छोटे दुकानों में भी ऑनलाइन पेमेंट की सुविधा उपलब्ध है और यह ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम हमारे पुरे भारत देश को डिजिटल देश बनाने में काफी सहायक रहा है,

अब भारत डिजिटल देश की दुनिया में एक और कदम आगे बड़ा चूका है हालही में 2 अगस्त 2021 को हमारे देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा नया डिजिटल पेमेंट सिस्टम लॉंच किया गया है जिसका नाम eRUPI है, हम आपको बता दे यह कोई डिजिटल या इलेक्ट्रॉनिक करेंसी नहीं है, ना ही भारत का Cryptocurrency है।

यह सिर्फ एक डिजिटल पेमेंट सिस्टम है इसकी मदद से सरकारी योजनाओ या प्राइवेट सेक्टर कॉर्पोरटे में बड़ी आसानी से पेमेंट किया जा सकता है, जितना UPI पेमेंट ऐप्स, बैंक ऑनलाइन पेमेंट सिक्योर है उससे भी ज्यादा सिक्योर ई रूपी है।

जैसा की हमें मालूम है ऑनलाइन पेमेंट से आज देश में  भ्रष्टाचार थोड़ी कम देखने को मिली है लेकिन इस ऑनलाइन पेमेंट के कारण धोखा धड़ी काफी ज्यादा बढ़ गयी है आय दिन खबर सुनने को मिलता है फलाने के लाखो की ठगी हो गयी है बस इन सभी भ्रष्टाचार और फ्रॉड से बचने के लिए भारत सरकार ने eRUPI लांच कर दी है।

eRUPI के लॉन्च होते ही काफी लोगो के मन में यह सवाल है की आखिर eRUPI क्या है? eRUPI के फायदे क्या है, eRUPI कैसे काम करता है, क्या eRUPI कोई ऐप है, ई रूपी कैसे डाउनलोड करें,

आम आदमी को eRUPI से क्या लाभ होगा, अधिकतर लोग भ्रमित है क्या यह कोई इलेक्ट्रॉनिक करेंसी या भारत का Cryptocurrency तो नहीं, इन सभी सवालों का जवाब आपको इस लेख में मिल जायेगा।

eRUPI क्या है? (ई रूपी क्या है?)

eRUPI का फुल फॉर्म इलेक्ट्रॉनिक रूपी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफ़ेस है जिसे अंग्रेजी में Electronic Rupee Unified Payment Interface कहते है eRUPI कोई भी डिजिटल या इलेक्ट्रॉनिक Currency नहीं है यह मात्र एक वाउचर है जो की प्रीपेड ई वाउचर की तरह काम करता है।

आज देश में भारत सरकार द्वारा बहुत से योजना उपलब्ध है जैसे प्रधान मंत्री जन धन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, अटल पेंशन योजना, कृषि योजनायें इत्यादि इन सभी योजनाओ के तहत लाभार्थी को सीधे उनके बैंक अकाउंट में कुछ राशि दी जाती है।

eRUPI क्या है

लेकिन सरकार यह नहीं ट्रैक कर पाती थी की असल में लाभार्थी पैसे का सही उपयोग कर रहा है या नहीं, लाभार्थी अपने निजी अन्य कार्यो में भी पैसो को खर्च कर सकता है लेकिन सरकार चाहती है योजना के तहत मिले पैसो का लाभार्थी सही जगह उपयोग करें इसलिए सरकार ने आज eRUPI लॉन्च कर दिया है।

और भी आसान तरीके से समझने के लिए यह उदाहरण पढ़े – अगर कृषि योजना के तहत किसी व्यक्ति को 2000 रूपए उसके बैंक अकाउंट में सरकार द्वारा भेजे जाते है लेकिन वह व्यक्ति उन पैसा का सही इस्तेमाल नहीं करता या किसी और काम में पैसे खर्च कर सकता है जो कृषि से सम्बंधित नहीं हो।

लेकिन eRUPI वाउचर में ऐसा नहीं होगा अगर सरकार उस किसान को 2000 रूपए का eRUPI वाउचर प्रदान करती है तब वह वाउचर सिर्फ केवल कृषि के सामन में खर्च कर पायेगा जैसे खाद, बीज इत्यादि यह eRUPI किसी अन्य दुकान पर Reedem नहीं किया जा सकेगा।

eRUPI कैसे काम करता है?

eRUPI Kya Hai यह तो जान लिया अब यह भी जान लेते है की eRUPI कैसे काम करता है ई रूपी एक कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस पेमेंट सिस्टम है इस सिस्टम के दौरान लाभार्थी को eRUPI वाउचर QR कोड या SMS के रूप में उनके मोबाइल पर भेजा जायेगा।

इस QR कोड या SMS में आये पिन को सरकार द्वारा चलाये जा रहे योजनाओ में दिखा कर योजना का लाभ उठा सकेंगे, इस दौरान कोई भी तीसरा व्यक्ति बिच में नहीं आएगा जिससे पहले के मुकाबले लाभार्थी को योजना का पूर्ण लाभ मिल सकेगा।

उदहारण – मान लीजिये आपके पास 2000 रुपए का अमेज़न वाउचर है इस वाउचर को सिर्फ अमेज़न के प्लेटफार्म में ही इस्तेमाल कर सकते है कुछ भी सामान खरीदने में लेकिन यही वाउचर का इस्तेमाल आप फ्लिपकार्ट और किसी दुकान में नहीं कर सकते बस इसी तरह काम करता है eRUPI वाउचर जिसका इस्तेमाल लाभार्थी सिर्फ स्पेसिफिक काम के लिए कर पायेगा।

और eRUPI वाउचर की सबसे अच्छी बात यह की इसके उपयोग के लिए किसी बैंक अकाउंट की जरुरत नहीं होगी ना ही किसी क्रेडिट, डेबिट कार्ड की सीधे एक फ़ोन के जरिये ही सभी योजनाओ का लाभ उठा पाएंगे और पेमेंट कर सकेंगे, इसका यह फीचर ही eRUPI को बाकियो से अलग बनता है।

eRUPI कैसे जारी करें?

eRUPI की सुविधा लाने के लिए नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने अपने यूपीआई प्लेटफार्म के जरिए कई बैंकों से टाई अप किया है वह सभी बैंक अपने eRUPI वाउचर जारी करने के लिए सछम होंगे, अगर किसी सरकारी या प्राइवेट कॉर्पोरटे को eRUPI जारी करना हो।

तब वे पार्टनर बैंक से कॉन्टेक्ट करके eRUPI जारी कर सकते है लेकिन इसके लिए उन्हें कुछ जानकारी देनी होगी जैसे किस उद्देश्य से eRUPI जारी किया जा रहा है वगेरा, अब यह eRUPI वाउचर लाभार्थियों के मोबाइल फ़ोन पर QR कोड या SMS के रूप में भेज दिया जाएगा।

एक बार यह QR कोड, SMS पहुंच जाने पर लाभार्थी निर्धारित सरकारी योजनाओ का लाभ सिर्फ एक कोड दिखा कर ले सकेंगे, बेनिफिशिएरी की पहचान उनके मोबाइल नंबर से की जाएगी और बैंक द्वारा सर्विस प्रोवाइडर को किसी व्यक्ति के नाम का वाउचर सिर्फ उसी व्यक्ति को दिया जाएगा।

eRUPI कहा इस्तेमाल कर सकते है?

eRUPI अभी अपने शुरुआती स्टेज में है इसलिए इसका इस्तेमाल अभी कम जगहों पर किया जायेगा लेकिन आने वाले समय पर धीरे धीरे सभी जगहों, योजनाओ पर eRUPI सिस्टम लागु कर दिया जायेगा।

भारत सरकार के मुताबित अभी eRUPI वाउचर का इस्तेमाल मदर एंड चाइल्ड वेलफेयर स्कीम, टीबी इरैडिकेशन प्रोग्राम, आयुष्मान भारत प्रधान मंत्री योजना, फर्टीलाइजर सब्सिडी और न्यूट्रिशनल सपोर्ट के तहत सुविधा देने के लिए किया जा सकता है।

और eRUPI का इस्तेमाल केवल सरकार ही नहीं  प्राइवेट कंपनी भी अपना खुद का eRUPI वाउचर जारी कर सकती है और इस्तेमाल कर सकती है।

eRUPI के फायदे क्या है?

  • eRUIPI पूरी तरह से कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस है,
  • eRUPI एक प्रकार का वाउचर होने के कारण काफी ज्यादा सिक्योर है,
  • भारत सरकार eRUPI को ट्रैक कर सकती है किसने कब योजना का लाभ लिया या नहीं लिया,
  • eRUPI किसी तरह की करेंसी नहीं है ना ही कोई डिजिटल कैश है इसलिए यह और भी ज्यादा सुरक्छित है,
  • eRUPI पेमेंट सिस्टम में जरुरी नहीं यूजर के पास बैंक अकाउंट, क्रेडिट या डेबिट कार्ड हो, बिना बैंक अकाउंट के ही लाभार्थी योजनाओ का eRUPI के माध्यम से लाभ उठा सकता है,
  • जिन लाभार्थियों के पास एंड्राइड या iOS स्मार्टफोन नहीं है उन्हें QR कोड की जगह SMS भेजा जा सकता है,
  • eRUPI डिजिटल पेमेंट में QR और SMS सिर्फ एक बार मान्य होगा यानि दूसरी बार इस भेजे गए QR कोड. SMS का उपयोग नहीं कर सकेंगे, सरकार हर बार एक नया eRUPI ई वाउचर जारी करेगी,
  • सरकार द्वारा जारी किया गया यह ई वाउचर लाभार्थी के मोबाइल नंबर से जुड़ा होगा जिस कारण इस ई वाउचर का उपयोग कोई और नहीं कर सकेगा,
  • सरकार और लाभार्थी के बिच तीसरा कोई भी व्यक्ति हस्तछेप नहीं कर सकेगा जबकि पहले ऐसा नहीं होता था तीसरा व्यक्ति आराम से लाभार्थी को प्राप्त मदद में हस्तछेप कर सकता था,
  • eRUPI के मदद से कही न कही भारत में कम भ्र्ष्टाचार देखने को मिलेंगे और धोखा धड़ी, ठगी भी कम होगी।

eRUPI किसके द्वारा बनाया गया है?

eRUPI को NCPI (भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम) ने UPI प्लेटफार्म पर वित्तीय विभाग, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण एवं स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा आपस में सहयोग से बनाया गया है और इसे RBI (रिज़र्व बैंक ऑफ़ इण्डिया) से मान्यता भी दिया गया हैं।

eRUPI एक भारतीय डिजिटल पेमेंट सिस्टम है जिसे 2 अगस्त 2021 को भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा लॉन्च किया गया था इस वीडियो को पूरा देखने के लिए निचे वीडियो पर क्लिक करें।

eRUPI डाउनलोड कैसे करें?

अब बात करे eRUPI ऐप डाउनलोड करने की तो हम आपको बता दे की eRUPI सिर्फ एक पेमेंट सिस्टम है ना ही कोई प्लेटफार्म है  इस कारण फ़िलहाल किसी भी तरह से डाउनलोड नहीं कर सकते अगर आपको किसी भी तरह का लिंक आये जिसमे दावा किया जाये की eRUPI ऐप डाउनलोड कर सकते है,

ऐसे लिंक से बचे आपके साथ ठगी हो सकता है जब भारत सरकार द्वारा eRUPI का ऑफिसियल ऐप लॉन्च किया जायेगा हम इसी लेख के माधयम से आपको  सूचित कर देंगे और लिंक भी प्रदान कर देंगे फ़िलहाल eRUPI नाम की कोई भी ऑफिसियल ऐप मौजूद नहीं है।

eRUPI वाउचर भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम NPCI द्वारा UPI प्लेटफार्म पर शामिल किया  है eRUPI को सरकार या कॉर्पोरटे कंपनी किसी भी UPI ऐप पर जारी कर सकते है इसके लिए लगभग सभी सरकारी और प्राइवेट बैंको से पार्टनरशिप किया गया है भारत सरकार द्वारा लॉन्च की गयी ऐप BHIM UPI ऐप का इस्तेमाल कर सकते है।

यह भी पढ़े

निष्कर्ष

उम्मीद करता हूँ मेरे द्वारा लिखे गए लेख  eRUPI क्या है? eRUPI के फायदे पढ़ कर आपको eRUPI के बारे में सारी जानकारी मिल गयी होगी हमने बिलकुल ही आसान भाषा में उदाहरण के माधयम से ई रूपी क्या है और ई रूपी कैसे जारी करे सभी टॉपिक को विस्तार में समझाया है।

मेरी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने फैमिली और दोस्तों के साथ भी साझा करे, इसी तरह के खबर और टिप्स ट्रिक्स के लिए infotechindi को फॉलो करें, और सबसे पहले टेक न्यूज़ पाने के लिए हमें टेलीग्राम, इंस्टाग्राम और फेसबुक पर भी फॉलो करें आपका धन्यवाद।

Leave a Comment